You are currently viewing सब रजिस्ट्रार दफ्तरों में भी ‘आप’ के झाड़ू से भ्रष्टों की सफाई की तैयारी

सब रजिस्ट्रार दफ्तरों में भी ‘आप’ के झाड़ू से भ्रष्टों की सफाई की तैयारी

जालंधर (लखबीर)

आम आदमी पार्टी ने रिश्वतखोरी व भ्रष्टाचार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अपने ही मंत्री को जेल की सलाखों के पीछे धकेल दिया है जिसके चलते कई सरकारी विभागों के क्रप्ट अधिकारियों व कलर्कों के माथे पर भी पसीने की लकीरें खिंच चुकी हैं। इसी तरह जल्दी ही सब रजिस्ट्रार दफ्तरों में क्रप्ट मुलाजिमों व अधिकारियों को जेल की हवा खानी पड़ सकती है। सब रजिस्ट्रार दफ्तरों में लगातार बिना एनओसी के रजिस्ट्रियां होती रही हैं। इस गौरखधंधे के मुख्य किरदार रजिस्ट्री कलर्कों को माना जा रहा है क्योंकि रिश्वतखोरी की सैटिंग के जितने भी आरोप हैं, वह रजिस्ट्री कलर्कों पर ही लगते आ रहे हैं। इतना ही नहीं सब रजिस्ट्रार दफ्तर के कुछेक रजिस्ट्री कलर्कों की शिकायतें विजीलैंस विभाग से लेकर सीएम हाऊस में भी दर्ज हो चुकी हैं। लोगों की मानें तो बिना एनओसी के हुई रजिस्ट्रियों की तलवार सब रजिस्ट्रारों के अलावा रजिस्ट्री कलर्कों पर भी लटकी हुई है, जिसके चलते इनका सीट पर टिके रहना मुशिकल ही नहीं बल्कि नामुमकिन बन चुका है। बिना एनओसी के हुई रजिस्ट्रियों का पूरा रिकार्ड मीडिया के पास मौजूद है, जो माननीय हाईकोर्ट के दरबार में पहुंच चुका है।

मंडराने लगे खतरे के बादल…

इतना ही नहीं जिन रजिस्ट्री कलर्कों ने बिना एनओसी के रजिस्ट्रियां की हैं, उनकी नौकरी पर खतरे के बादल मंडराने शुरू हो गए हैं। जल्दी ही इन क्रप्ट कलर्कों की नौकरी जाएगी। क्रप्ट रजिस्ट्री कलर्कों ने एक-एक रजिस्ट्री पर 30-30 हजार की रिश्वत लेकर अपने घर भर लिए हैं तथा लोगों को इस कदर लूटा है कि उन्हें सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है, जिनके खिलाफ विभाग ने ही नहीं अब सरकार ने भी डंडे को तेल लगा लिया है। एंटी क्रप्शन संगठन आफ इंडिया ने उक्त रजिस्ट्री कलर्कों के खिलाफ शिकायतें दर्ज करवा दी हैं। इसके अलावा अन्य सोसाइटी ने भी मोर्चा खोलकर सीएम भगवंत मान व विजीलैंस का दरवाजा खड़का दिया है।

अब नहीं चलेगी किसी भी आका की…

लम्बे समय से सब रजिस्ट्रार दफ्तर में गरीब जनता का खून चूसने वाले एक आरसी की गर्दन पर हाथ डालने की तैयारी कई संस्थाओं ने कर रखी है। इसके खिलाफ भी कई विभागों में शिकायतों का दौर शुरू हो चुका है। बतादें कि उक्त आरसी की बदली रुकवाने के लिए ढाई लाख रुपए रिश्वत चढ़ाने की चर्चाएं भी लगातार बनी रही हैं पर अब इसकी न रिश्वत प्रवान चढ़ेगी तथा न ही कोई आका ही इसके सिर पर हाथ रखेगा। हमेशा जिसकी सरकार उसकी डफली बजाने की नीती पर चलने वाले इस कलर्क को अब मूंह की खानी ही पड़ेगी।