नंबरदार चन्द्र कलेर के सिर सजा जालंधर शहर की प्रधानगी का ताज

नंबरदार चन्द्र कलेर के सिर सजा जालंधर शहर की प्रधानगी का ताज

जालंधर (लखबीर)

नंबरदार यूनियन द्वारा नूरमहल में मीटिंग का आयोजन किया गया है। मीटिंग दौरान सूबे से बहुत से नंबरदारों ने शिरकत की। इस दौरान नंबरदारों की समस्याओं को सरकार व प्रशासन तक पहुंचाने वाले नंबरदारों की सराहना की गई। जालंधर तहसील में नंबरदारों की समस्याओं को पहल के आधार पर हल करवाने के लिए हमेशा प्रयत्न करने वाले नंबरदार चन्द्र कलेर को नई जिम्मेवारी से नवाजा गया। यूनियन के सूबा प्रधान गुरपाल सिंह समरा ने समूह नंबरदार भाईचारे की सहमति से चन्द्र कलेर को जालंधर शहरी प्रधान नियुक्त किया। बतादें कि इससे पहले कलेर तहसील जालंधर-2 के प्रधान चले आ रहे थे। इस दौरान कलेर को यूनियन द्वारा गुलदस्ता भेट कर मुबार्कबाद पेश की गई। गुरपाल समरा ने कहा कि चन्द्र कलेर के जज्बे व भाईचारे के लिए संघर्ष करते रहने के कारण उन्हें शहरी प्रधान नियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि कलेर की तरह हर नंबरदार को आपने हकों व भाईचारे के हित्तों के लिए आवाज उठाते रहना चाहिए। इस अवसर नंबरदार गुरदेव लाल, जथेदार दर्शन सिंह, जरनैल सिंह, मदन लाल, कैलाश कुमार, हरजिन्द्र सिंह, सर्बजीत, रजिन्द्र सिंह, बिशन दास के अलावा सूबे भर से नंबरदारों ने शिरकत की।

आखिर कलेर क्यों नहीं बने जिला प्रधान!

वहीं दूसरी ओर सूबा प्रधान गुरपाल समरा ने कलेर को जिला प्रधान के अहुदे से नवाजा पर कलेर ने इस प्रपोजल को लेने से इन्कार कर दिया। उन्होंने कहा कि फिल्हाल वह शहरी प्रधान बनकर सेवा करना चाहते हैं। कलेर ने कहा कि जिला प्रधान बनकर जिम्मेवारी बढ़ सकती है, जिसके लिए वह अभी तैयार नहीं हैं। बतादें कि चन्द्र कलेर नंबरदार होने के साथ-साथ समाज सेवी कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते आ रहे हैं तथा उनका अपने इलाके के साथ-साथ शहर के अन्य इलाकों में भी काफी रुतबा है, जिसके चलते दूर-दूर से आकर लोग उनके साथ राबता कायम करते हैं। इसी वजह से भी कलेर जिला प्रधानगी के पद से दूर रहना चाहते हैं ताकि वह भाईचारे के साथ-साथ समाज के अन्य लोगों की भी सहायता कर सकें। इससे पहले अशोक संधु जिला प्रधान के अहुदे पर काम करते आ रहे हैं।

गुरदेव लाल बन सकते हैं तहसील-2 के प्रधान

वहीं दूसरी ओर चन्द्र कलेर द्वारा शहरी प्रधान बनने से तहसील-2 की प्रधानगी की सीट खाली हो जाएगी, जिसके लिए नंबरदार गुरदेव लाल पूरी तरह से फिट बैठते हैं। गुरदेव भी लम्बे समय से तहसील के नंबरदारों की आवाज बुलंद करते आ रहे हैं, इसलिए तहसील-2 की प्रधानगी का ताज उनके सिर पर सज सकता है।

 

Numberdar Chandra Kler's head decorated Jalandhar city's headship