Kisan Andolan: टिकरी के बाद गाजीपुर बॉर्डर से पुलिस ने हटाए बैरिकेड
Kisan Andolan: Police removed barricades from Ghazipur border after Tikri

Kisan Andolan: टिकरी के बाद गाजीपुर बॉर्डर से पुलिस ने हटाए बैरिकेड

नई दिल्‍ली

दिल्‍ली से नोएडा और गाजियाबाद आने-जाने वालों के लिए बड़ी राहत की खबर है। जल्‍द ही टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से रास्‍ता खुल सकता है। पुलिस ने दोनों जगह से बैरिकेड्स हटाने शुरू कर दिए हैं। डीसीपी (ईस्‍ट) प्रियंका कश्‍यप ने कहा कि सेक्‍टर 2 और 3 में NH9 खुल रहा है। जल्‍द ही NH24 भी खोल दिया जाएगा। दिल्‍ली पुलिस का कहना है कि किसानों के साथ सहमति बनने के बाद दोनों बॉर्डर्स पर इमर्जेंसी रूट खोल दिए जाएंगे। शुक्रवार सुबह पुलिस बैरिकेड्स हटाती नजर आई। रास्‍ता खुलता है तो पिछले करीब 11 महीनों से जारी किसान आंदोलन से परेशानी झेल रहे लाखों लोगों को राहत मिलेगी।

टिकरी बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस ने हटवाए बैरिकेड्स

टिकरी बॉर्डर होकर दिल्ली जाने वाला एक तरफ का रास्ता खुलने के आसार हैं। दिल्ली पुलिस की टीम ने टिकरी बॉर्डर पर दिल्ली की ओर लगे बैरिकेड्स को हटवा दिया। सड़क के बीच गाड़ी गई कीलें हटवा दीं और जेसीबी की सहायता से रास्ता भी थोड़ा साफ कराया। हरियाणा सरकार की पावर कमिटी ने भी दो दिन पहले यहां बहादुरगढ़ में हुई किसानों व प्रशासन की मीटिंग के दौरान यहां बंद सड़कों के हालात देखे थे। बॉर्डर पर किसानों के स्टेज तक पहले से रास्ता खुला हुआ है।

किसान नेताओं से चल रही बात

किसान आंदोलन की वजह से लगे बैरिकेड्स हटने के पीछे ‌सुप्रीम कोर्ट के आदेश को वजह माना जा रहा है। 21 अक्‍टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि किसानों को प्रदर्शन का अधिकार है। मगर अनिश्चितकाल के लिए सड़कें ब्‍लॉक नहीं की जा सकतीं। पुलिस अफसर के मुताबिक, किसान नेताओं से प्रदर्शन स्थल से रास्ता देने की बात की जा रही है। अगर वह रास्ता देने को तैयार हो जाते हैं तो रोहतक रोड को खोल दिया जाएगा। दिल्ली पुलिस लगातार हरियाणा पुलिस के संपर्क में है। टिकरी बॉर्डर पर पु‌लिस और ‌किसान नेताओं के बीच मीटिंग का दौर देर रात तक जारी था। बताया जा रहा है ‌कि शुक्रवार तक अगर ‌किसान सहमत हो जाते हैं तो ‌टीकरी बॉर्डर को खोल ‌दिया जाएगा। डीसीपी परमिंदर का कहना था कि दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को बैरिकेड नहीं हटाया, लेकिन हटाने की तैयारी है।

निहंग संगठनों ने कहा, सिंघु बॉर्डर से नहीं जाएंगे

सिंघु बॉर्डर पर रास्‍ता खुलने के आसार कम ही हैं। एक बार फिर निहंग सिखों की तरफ से बैठक की गई। बैठक के बाद निहंग सिखों ने बताया कि वह सिंघु बॉर्डर नहीं छोड़ रहे हैं। वे यहीं मौजूद रहेंगे और अपने हकों की लड़ाई के लिए यहां लड़ते रहेंगे। निहंग सिखों ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के कुछ नेता यह कह रहे हैं कि निहंग यहां से चले जाएं। हम उन नेताओं को कहना चाहते हैं कि ना तो हम किसी नेता के कहने पर यहां आए हैं और ना ही किसी के कहने पर यहां से जाएंगे। हम यही रहेंगे और हम गरीब मजदूरों की लड़ाई को लड़ते रहेंगे।

 

Kisan Andolan: Police removed barricades from Ghazipur border after Tikri