You are currently viewing तहसील के महा ठग्ग… के. एंड कंपनी ने खड़ा किया करोड़ों का एम्पायर… सरकारी दफ्तर बंद होने के बाद कंपनी के करिंदे करते हैं एंट्री

तहसील के महा ठग्ग… के. एंड कंपनी ने खड़ा किया करोड़ों का एम्पायर… सरकारी दफ्तर बंद होने के बाद कंपनी के करिंदे करते हैं एंट्री

जालंधर (लखबीर)

वैसे तो सरकारी दफ्तरों में लम्बे समय से एजैंटों के सहारे काम चलते आ रहे हैं पर किसी दफ्तर का करता-धरता ही कोई एजैंट हो, यह हैरान करने वाली बात है। इसी तरह तहसील में एक एजैंट ऐसा है जिसके सहारे ही नहीं बल्कि उसके इशारे पर पूरा दफ्तर चलता आ रहा है। जी हां, तहसील में के. एंड कंपनी कई सालों से दफ्तरों को अपने इशारे पर चलाती आ रही है। देर शाम के. एंड कंपनी के करिंदे दफ्तरी रिर्काड से छेड़छाड़ करने के साथ-साथ वहां से सरकारी दस्तावेजों की फोटो खींच लेते हैं तथा अगले दिन ज्यादा काम करवाने वालों को अपनी ओर खींचने के लिए हर तरह के हथकंडे अपना कर अपनी ओर खींच लेते हैं।

कौन है यह के. एंड कंपनी…

के. एंड कंपनी वह है, जो वसीका नवीसों की तरह काम करती आ रही है। यह कंपनी किसी भी वसीका नवीस से काम छीनने के लिए मशहूर मानी जाती है। इतना ही नहीं रजिस्ट्रियां या अन्य दस्तावेज दर्ज करवाने के लिए ग्राहक को विभिन्न तरह के लालच भी देती है। कंपनी के मालिकों ने कुछ ही वर्षों में बड़ा एम्पायर खड़ा कर लिया है। हैरानी की बात है कि एक रजिस्ट्री की कुछ रुपयों में फीस होने के बावजूद करोड़ों रुपए का बंगला खड़ा करने के साथ-साथ अपने कई प्राइवेट स्कूल भी खोल लिए हैं, जिससे इनकी ठग्गी की झलक साफ दिखाई देती है।

शाम ढलते ही लगाते हैं दफ्तर में डेरे…

के. एंड कंपनी के करिंदे शाम ढलते ही सरकारी दफ्तर में पहुंच जाते हैं। दफ्तर का दरवाजा अंदर से बंद करने के बाद सरकारी दस्तावेजों से खिलवाड़ करने का सिलसिला भी लम्बे समय से चलता आ रहा है। दफ्तर के प्राइवेट करिंदों को कुछ रुपयों का लालच देकर दफ्तर बंद होने के बाद दाखल हो जाते हैं। रोजाना देर शाम के. एंड कंपनी के करिंदों को सरकारी दफ्तर बंद होने के बाद देखा जा सकता है।

आरसी बनते हैं इनकी ढाल…

कोई भी बाहरी व्यक्ति किसी भी सरकारी दफ्तर में बिना किसी मुलाजिम की सांठ-गांठ से दाखल नहीं हो सकता है। इसी तरह के. एंड कंपनी ने प्राइवेट करिंदों के अलावा आरसी को अपने हाथों की कठपुतली बना रखा है। पता चला है कि एक शराब का लालची कर्लक अपने हाथों से पिछला दरवाजा खोल कर कंपनी के करिंदों की एंट्री करवाता आ रहा है। सूत्रों अनुसार कंपनी का करिंदा दफ्तर में एंट्री से पहले कर्लक को कार में शराब परोस देता है तथा उसके बाद बिना किसी रोक-टोक के अपने काम को अंजाम देते आ रहे हैं।